News Times 7
बड़ी-खबरब्रे़किंग न्यूज़

चीन की कंपनी Vivo को एक और झटका

चीन की कंपनी Vivo को एक और झटका

 

भारत और चीन के बीच चल रहे मौजूदा विवाद का खामियाजा चाइनीज स्मार्टफोन मेकर कंपनी वीवो को भुगतना पड़ रहा है. एंटी चाइना माहौल को ध्यान में रखते हुए वीवो प्रो कबड्डी लीग को स्पॉन्सर करने से पीछे हट गई है. एबीपी न्यूज को सूत्रों के हवाले से यह खबर मिली है. इससे पहले गुरुवार को बीसीसीआई ने टाइटल स्पॉन्सर के तौर पर वीवो के आईपीएल से अलग होने की जानकारी दी थी.

Advertisement

 

प्रो कबड्डी लीग के साथ वीवो का कॉन्ट्रैक्ट 60 करोड़ रुपये सलाना का था. टूर्नामेंट के आयोजकों का अगला कदम क्या होगा इसके बारे में कई जानकारी सामने नहीं आई है.

वीवो पिछले चार साल से प्रो कबड्डी लीग को स्पॉन्सर कर रही है. लेकिन अब पांचवें साल में वीवो ने प्रो कबड्डी लीग की स्पॉन्सशीप से अलग होने का फैसला किया है. प्रो कबड्डी लीग से वीवो के अलग होने का आधिकारिक एलान आने वाले कुछ दिनों में हो सकता है.

Advertisement

बता दें कि जून में 20 भारतीय जवानों के शहीद होने के बाद से ही देशभर में चीन के खिलाफ माहौल बना हुआ है. बीसीसीआई ने पहले वीवो को टाइटल स्पॉन्सर के तौर पर बरकरार रखने का फैसला लिया था. लेकिन बीसीसीआई के इस एलान के बाद बायकॉट आईपीएल की मुहिम शुरू हो गई. देशभर में चीन के खिलाफ माहौल को देखते हुए बीसीसीआई वीवो से अलग हो गया.

 

आईपीएल में टाइटल स्पॉन्सर की जगह लेने के लिए एमेजन, कोका कोला, जियो और बाईजू ने दिलचस्पी दिखाई है. हालांकि पिछले कुछ सालों में कबड्डी की लोकप्रियता में बढ़ोतरी हुई है, लेकिन क्रिकेट से इसकी तुलना बेमानी है. इसलिए देखना होगा कि अब प्रो कबड्डी लीग की स्पॉन्सरशिप में कौन रूचि दिखाता है.

Advertisement
Advertisement

Related posts

गुजरात में 6 नगर निकायों में भाजपा ने लहराया परचम, AAP की जबरदस्त एंट्री तो कांग्रेस का सूपड़ा साफ

News Times 7

मुंबई टेस्ट में न्यूजीलैंड के जीत के सपनो पर भारत ने फेरा पानी ,10 विकेट लेने वाला बॉलर भी नहीं जीता पाया मैच

News Times 7

स्वतंत्रता दिवस पर SBI का अपने ग्राहकों को तोहफा, होम लोन पर नहीं लगेगी प्रोसेसिंग फीस,जानिये और क्या है फायदें

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़