News Times 7
अध्यात्म बड़ी-खबर ब्रे़किंग न्यूज़ संपादकीय

साल 2020 का सबसे बड़ा सूर्य ग्रहण 14 दिसंबर को, ज्योतिषविदों के मुताबिक, इस सूर्य ग्रहण पर बेहद अशुभ गुरु चंडाल योग बन रहा है.

अक्सर खगोलीय घटनाओं से होने वाले ग्रहण आज के वर्तमान में आश्चर्य का विषय रहा , और समय-समय पर इन खगोलीय घटनाओं ने लोगों को आश्चर्यचकित भी किया है अक्सर लंबे वक्त तक सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण ने लोगों को जगाया है ,लेकिन साल 2020 का आखिरी सूर्य ग्रहण जो 14 दिसंबर को वृश्चिक राशि और मिथुन लग्न में लगेगा उसकी एक अलौकिक छटा होगी ! Solar Eclipse 14 December 2020: 14 दिसंबर को होगा अब सूर्यग्रहण | Surya  Grahan 14 December 2020 - YouTubeज्योतिषविदों के मुताबिक, यह सूर्य ग्रहण वृश्चिक राशि और मिथुन लग्न में लगेगा. भारत में ग्रहण के दृश्य न होने की वजह से यहां इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा. आइए जानते हैं इस ग्रहण का समय क्या होगा और सूतक को लेकर क्या मान्यताएं रहेंगी.

सूर्य ग्रहण का समय– साल का आखिरी सूर्य ग्रहण 14 दिसंबर को शाम 07 बजकर 03 मिनट से रात 12 बजकर 23 मिनट तक लगेगा. इस ग्रहण की कुल अवधि लगभग 5 घंटे रहेगी.Solar Eclipse: 14 दिसंबर को सूर्य ग्रहण, जानिए आपकी राशि पर कैसा रहेगा असर

यह ग्रहण भारत में दृश्य नहीं होगा, इसलिए इसका सूतक काल मान्य नहीं होगा.ये ग्रहण दक्षिणी अफ्रीका, अधिकांश दक्षिण अमेरिका, प्रशांत महासागर, अटलांटिक और हिंद महासागर और अंटार्कटिका में पूर्ण रूप से दिखाई देगा. आमतौर पर सूर्य ग्रहण लगने से 12 घंटे पहले सूतक काल लग जाता है.

Advertisement

 सूर्य ग्रहण लगने से 12 घंटे पहले सूतक काल (Sutak kaal) लग जाता है, जिसमें शुभ कार्य वर्जित होते हैं. सूतक काल में पूजा-पाठ भी नहीं की जाती है. इस दौरान मंदिर के कपाट भी बंद रहते हैं. कहते हैं कि गर्भवती महिलाओं को सूतक काल मेंछोंक, तड़का, धारदार और नुकीली वस्तुओं से दूर रहना चाहिए. सूर्य ग्रहण में सूतक काल 12 घंटे का होता है.Last Lunar Eclipse Chandra Grahan 2020 and surya grahan 2020 Positive and  Negative big affects on you

14 दिसंबर को लगने जा रहे सूर्य ग्रहण के दौरान वृश्चिक राशि में 5 ग्रह मौजूद रहेंगे. इसे पंचग्रही योग कहा जा रहा है. ज्योतिष गणना के अनुसार सोमवती अमावस्या पर वृश्चिक राशि में सूर्य, चंद्र, बुध, शुक्र और केतु विराजमान रहेंगे. ऐसी स्थिति कई वर्षों बाद बन रही है.

 सूर्य ग्रहण में बुजुर्गों, गर्भवती महिलाओं या किसी बीमारी व्यक्ति को सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है. ऐसे में घर से बाहर निकलकर नग्न आंखों से सूर्य देखने से परहेज करना चाहिए. साथ ही ग्रहण काल में छोंक, तड़का लगाने या किसी धारदार और नुकीली वस्तु का इस्तेमाल करने की मनाही होती है.Surya Grahan 2020 Time And Date - Surya Grahan 2020: 14 दिसंबर को लगेगा साल  का अंतिम सूर्य ग्रहण, जानिये समय और क्या करने से बचें | Patrika News

Advertisement

 राहु और गुरु के एक ही स्थान पर बैठने से गुरु चंडाल योग बनता है. ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, मेष, कर्क, मिथुन, कन्या, तुला और मकर राशि पर गुरु चंडाल योग का सबसे बुरा असर पड़ सकता है.सूर्यग्रहण के बाद किया जाता हैं ये काम जानें कब कहा लगेगा अगला सूर्य- चंद्र  ग्रहण।

2020 में दो सूर्य ग्रहण लगे हैं. इसी तरह 2021 में भी दो सूर्य ग्रहण लगेंगे. पहला सूर्य ग्रहण साल के मध्य में यानी 10 जून 2021 को लगेगा. ये ग्रहण उत्तरी अमेरिका के उत्तरी भाग, यूरोप और एशिया में आंशिक, जबकि उत्तरी कनाडा, ग्रीनलैंड और रूस में पूर्ण रूप से दिखाई देगा. भारत में ये ग्रहण आंशिक रूप से दिखाई देगा. जबकि दूसरा सूर्य ग्रहण 4 दिसंबर 2021 को लगेगा. इस ग्रहण का असर अंटार्कटिका, दक्षिण अफ्रीका, अटलांटिक के दक्षिणी भाग, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अमेरिका में होगा.

Advertisement
Advertisement

Related posts

News Times 7

आज रात 9 बजे 9 मिनट तक बेरोजगारी के खिलाफ जलाएं क्रांति की मशाल,प्रियंका का मिला साथ -अखिलेश यादव

News Times 7

कोरोना की बढ़ती महामारी ने फिर किया सरकार की दावो को पस्त, दिल्ली के CM ने मांगे 1000 ICU बेड

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़