News Times 7
इतिहासटॉप न्यूज़दुर्घटनाब्रे़किंग न्यूज़

भोपाल गैस कांडः 36 साल पहले कि वह काली रात जिसने गयी हजारों जिंदगियां

शायद याद होगा आपको ,आज से 36 साल पहले आज के ही दिन देश के लिए एक बहुत बड़ी भयानक घटना और मध्य प्रदेश के लिए एक भयावह काली रात आई थी, जहां हजारों जिंदगियां एक साथ खत्म हो गई बहुत निश्चिंता के साथ लोग खा पीकर सो रहे थे की अचानक एक विस्फोट ने हजारों लोगों की जिंदगी तबाह कर दी ! कितनों के परिवार उस काल में समा गए, सिहर उठता है दिल और दिमाग जब उस मनहूस रात की याद आती है! हिंदुस्तान के इतिहास में ऐसी त्रासदी जो लोगों ने अपनी आंखों से देखा था ,डर से जुबान बंद हो जाते हैं आंखें नम हो जाती हैं जब हर जगह मौत का तांडव नजर आ रहा था , जगह नहीं बची थी कही लाश दफनाने की ,आइए जानते हैं कैसी थी वह मनहूस रात और क्या हुआ था,  आज से 36 साल पहले मध्य प्रदेश के भोपाल में एक ऐसी मनहूस रात आई जिसने एक झटके में हजारों लोगों की जिंदगी लील ली. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल इस भयावह रात की गवाह बनी. 1984 में 2 और 3 दिसंबर की दरमियानी रात जहरीली गैस के रिसाव ने सो रहे हजारों लोगों की जान ले ली.

36 साल पहले भोपाल के काजी कैम्प और जेपी नगर (अब आरिफ नगर) और उसके आसपास के इलाके के लोग रात का भोजन करके सो रहे थे लेकिन आधी रात के वक्त आरिफ नगर स्थित अमेरिकी कंपनी यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री में मौजूद तमाम गैस के टैंकों में से एक टैंक नंबर 610 से ऐसी खतरनाक गैस का रिसाव हुआ जिसकी वजह से हजारों लोगों की जान चली गई. यही नहीं इस खतरनाक गैस का असर अगले कई सालों तक रहा और हादसे के बाद भी यहां के लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

बताया जाता है कि यूनियन कार्बाइड की फैक्ट्री से करीब 40 टन गैस का रिसाव हुआ था. रिसाव की वजह यह थी कि टैंक नंबर 610 में जहरीली मिथाइल आइसो साइनेट गैस (मिक) का पानी से मिल जाना. इस वजह से हुई रासायनिक प्रक्रिया की वजह से टैंक में दबाव पैदा हो गया जिससे टैंक खुल गया और उससे निकली गैस ने कुछ ही देर में हजारों लोगों की जान ले ली.

Advertisement

गैस का रिसाव रात 10 बजे के आसपास हुआ और 11 बजे के बाद इसका असर दिखने लगा और कुछ ही देर में आसपास के क्षेत्रों में फैल गया. बड़ी संख्या में कुछ ही देर में लोग मारे गए.

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक यूनियन कार्बाइड संयंत्र से रिसी जहरीली गैस ‘मिथाइल आइसो साइनेट (मिक)’ गैस की चपेट में आकर मरने वालों की आधिकारिक संख्या 4 हजार से कम है, लेकिन दावा किया जाता है कि इस हादसे में 16 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी.

मध्य प्रदेश सरकार के आंकड़ों के अनुसार इस गैस त्रासदी से कुल 5,74,376 लोग प्रभावित हुए थे तो वहीं, 3,787 लोगों की मौत हुई थी. हालांकि शुरुआत में गैस रिसाव की वजह से मरने वालों की संख्या 2,259 बताई गई थी जिसे बाद में अपडेट किया गया.

Advertisement

2006 में सरकार द्वारा दाखिल एक शपथ पत्र में यह माना गया कि गैस रिसाव से करीब 558,125 सीधे तौर पर प्रभावित हुए और आंशिक तौर पर प्रभावित होने की संख्या लगभग 38,478 थी. 3,900 लोग तो बुरी तरह प्रभावित हुए और अपंगता के शिकार हो गए.

यूनियन कार्बाइड कॉरपोरेशन (यूसीसी) ने 2-3 दिसंबर, 1984 की रात को यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री से जहरीली गैस के रिसाव के बाद 470 मिलियन अमेरिकी डालर (सेटेलमेंट के समय 715 करोड़ रुपये) का मुआवजा दिया, जिसमें 3,000 से अधिक लोगों की मौत हो गई और 1.02 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए.

ज्यादा मुआवजे की मांग
हालांकि भोपाल गैस कांड के पीड़ित लोग ज्यादा मुआवजे की मांग कर रहे हैं. दिसंबर 2010 में केंद्र सरकार ने सुधार याचिका लगाकर अतिरिक्त मुआवजा 7,844 करोड़ रुपये की मांग की थी. मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है.

Advertisement

7 जून 2010 को, भोपाल की एक अदालत ने यूनियन कार्बाइड इंडिया लिमिटेड (यूसीआईएल) के सात अधिकारियों को हादसे के सिलसिले में दो साल की सजा सुनाई थी, हादसे के वक्त UCC के अध्यक्ष वॉरेन एंडरसन मामले में मुख्य आरोपी थे, लेकिन मुकदमे के लिए पेश नहीं हुए.

1 फरवरी 1992 को भोपाल CJM कोर्ट ने उन्हें फरार घोषित कर दिया था. भोपाल की अदालत ने एंडरसन के खिलाफ 1992 और 2009 में दो बार गैर-जमानती वारंट जारी किया था. सितंबर, 2014 में एंडरसन का निधन हो गया.

आज भी दिखता है असर
दुनिया के भयानक औद्योगिक त्रासदियों में से एक भोपाल गैस त्रासदी का असर आज भी दिखता है. इस क्षेत्र में आज भी बड़ी संख्या में लोग किसी न किसी दिक्कत का सामना करते हैं. इन क्षेत्रों में रहने वालों ज्यादातर लोगों को सांस से जुड़ी दिक्कतें होती हैं. बच्चे विकलांगता का शिकार होते हैं.

Advertisement

गुजरते वक्त के साथ-साथ गैस त्रासदी के पीड़ितों का दर्द कम होने की बजाए बढ़ता ही गया. इन करीब साढ़े तीन दशकों में राज्य और केंद्र में सरकारें बदलती रहीं, लेकिन पीड़ितों की किस्मत नहीं बदली. मदद के लिए बड़ी संख्या में लोग भटकते रहे लेकिन कई तो आस लगाए ही इस दुनिया से चले भी गए.

Advertisement

Related posts

PNB बेच रहा कम कीमत में हजारों मकान,12 मई को नीलामी, चेक करें डिटेल

News Times 7

दिल्ली अनलॉक-कुछ और रियायतों के साथ लॉकडाउन रहेगा जारी ,बाजार, मॉल ऑड-ईवन आधार पर खुलेंगे।

News Times 7

पांच मैचों की टेस्ट सीरीज खेलने लंबे वक्त के लिए टीम इंडिया आज इंग्लैंड होगी रवाना

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़