News Times 7
घोटाला बड़ी-खबर ब्रे़किंग न्यूज़

PPE किट घोटाले का मुद्दा सांसद संजय ने CBI जांच की मांग की

आम आदमी पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह लगातार इस मुद्दे को लेकर हमलावर बने हुए हैं. अब उन्होंने यह मुद्दा सदन में उठाकर इस मामले में सीबीआई जांच की मांग की है.राज्यसभा में पहुंचा PPE किट घोटाले का मुद्दा, सांसद संजय ने CBI जांच की मांग की

नई दिल्ली: –कोरोनावायरस महामारी के बीच हुए  पीपीई किट  का मुद्दा राज्यसभा में उठाया गया है. आम आदमी पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद  संजय सिंह  लगातार इस मुद्दे को लेकर हमलावर बने हुए हैं. अब उन्होंने यह मुद्दा सदन में उठाकर इस मामले में सीबीआई जांच की मांग की है. कि उत्तर प्रदेश और हिमाचल प्रदेश सहित कई दूसरे राज्यों में जो पीपीई किट घोटाले हुए हैं, उनकी सीबीआई इंक्वायरी होनी चाहिए. यूपी में ऑक्सीमीटर की खरीद में 800 फीसदी तक की कमीशन ली गई है. इन सबकी सीबीआई जांच होनी चाहिए.’

उन्होंने यह भी कहा कि ‘ये घोटाला क्योंकि एक-दो जिलों तक सीमित नहीं है. कोरोना की महामारी के दौरान, कोरोना के संकट के दौरान ये घोटाला कहीं पंचायत तक या कहीं एक ब्लॉक तक सीमित नहीं है बल्कि ये घोटाला योगी सरकार ने पूरे उत्तर प्रदेश के अंदर किया है.’

बता दें कि कुछ दिनों पहले उत्तर प्रदेश में कोरोना किट्स की खरीद में घोटाले का खुलासा हुआ है. कोरोना के घर-घर सर्वे के लिए योगी सरकार ने पल्स ऑक्सीमीटर और थर्मल स्कैनर खरीदने के आदेश दिए थे, उसे ज़िलों में तय कीमत से पांच-पांच गुना ज्यादा दाम पर खरीद लिया गया. ये आरोप खुद बीजेपी के विधायक और पदाधिकारियों ने लगाया है. मामला सामने आने के बाद घोटाले में दो अफसर सस्पेंड किए गए हैं और सरकार ने इसपर SIT की जांच बिठा दी है.

Advertisement

हालांकि, संजय सिंह ने सदन में जब कहा कि वो उत्तर प्रदेस में कोविड-19 किट्स की खरीद में हुई अनियमितताओं का मुद्दा उठाना चाहते हैं तो राज्यसभा के उपसभापति ने उन्हें रोकते हुए कहा कि वो सदन में राज्य विशेष का मुद्दा नहीं उठा सकते हैं.

इसके पहले संजय सिंह सोशल मीडिया पर भी इस मुद्दे को उठा चुके हैं. उन्होंने यूपी में हुई कोरोना किट की खरीदारी की तुलना ऑनलाइन शॉपिंग साइट्स पर उपलब्ध उत्पादों से करते हुए एक ट्वीट किया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘योगीजी कृपया ध्यान दें. ऑनलाइन खरीदने पर जो ऑक्सीमीटर की कीमत 800 रुपए, थर्मामीटर की कीमत 1800 रुपए है तो सुल्तानपुर की डीएम ने 9950 रुपे में कोविड सर्वे किट क्यों खरीदा? किसने कितनी दलाली खाई? कोरोना के नाम पर भ्रष्ट्राचार श्मशान में दलाली के समान है.’

Advertisement
Advertisement

Related posts

डॉ रणदीप गुलेरिया का दावा 6-8 हफ्तों मे आ सकता है कोरोना की तीसरी लहर

News Times 7

बिहार का MVI निकला धनकुबेर ,बालू माफियाओं से सांठ-गांठ कर फ्लैट, जमीन जेवर सहित अकूत संपत्ति का निकला मालिक

News Times 7

ऐश्‍वर्या के डर से तेज प्रताप यादव ने बदला विधानसभा क्षेत्र

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़