News Times 7
बड़ी-खबर ब्रे़किंग न्यूज़ राजनीति

मॉनसून सत्र में प्रश्नकाल ना होने से भड़का विपक्ष ,विपक्षी पार्टियों ने निर्णय को लोकतंत्र की हत्या कहा

मॉनसून सत्र में प्रश्नकाल ना होने से भड़का विपक्ष,विपक्षी पार्टियों ने निर्णय को लोकतंत्र की हत्या कहा

 

 

शशि थरूर समेत कई नेताओं ने उठाए सवाल (फोटो: PTI)कोरोना वायरस संकट के बीच संसद के मॉनसून सत्र की तैयारियां जोरों पर हैं. 14 सितंबर से सत्र की शुरुआत होनी है लेकिन अभी से ही सरकार और विपक्ष के बीच आर-पार की जंग तेज हो गई है. कोरोना काल में हो रहे संसद के सत्र में प्रश्न काल शामिल नहीं है, ऐसे में विपक्ष की ओर से कई तरह के सवाल खड़े किए जा रहे हैं. कांग्रेस सांसद शशि थरूर से लेकर टीएमसी के नेताओं ने सरकार को इस मसले पर घेरा है.

Advertisement

कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने इस मसले पर ट्वीट किया कि मैंने चार महीने पहले कहा था कि मजबूत नेता महामारी को लोकतंत्र को खत्म करने के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं. संसद सत्र का नोटिफिकेशन ये बता रहा है कि इस बार प्रश्नकाल नहीं होगा. हमें सुरक्षित रखने के नाम पर ये कितना सही है?

 

कांग्रेस नेता ने कहा कि संसदीय लोकतंत्र में सरकार से सवाल पूछना एक ऑक्सीजन की तरह है. लेकिन ये सरकार संसद को एक नोटिस बोर्ड की तरह बनाना चाहती है और अपने बहुमत को रबर स्टांप के तौर पर इस्तेमाल कर रही है. जिस एक तरीके से अकाउंटबिलिटी तय हो रही थी, उसे भी किनारे किया जा रहा है.

Advertisement

कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला ने भी इस मसले पर ट्वीट किया और लिखा कि ऐसा कैसे हो सकता है? स्पीकर से अपील है कि वो इस फैसले को दोबारा देखें. प्रश्नकाल संसद की सबसे बड़ी ताकत है.

टीएमसी ने भी मोदी सरकार को घेरा
शशि थरूर के अलावा टीएमसी के राज्यसभा सांसद दिनेश त्रिवेदी ने भी सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि हर सांसद का फर्ज है कि वो इसका विरोध करे, क्योंकि यही मंच है कि आप सरकार से सवाल पूछ सकें. अगर ऐसा हो रहा है तो क्या यही नया नॉर्मल है जो इतिहास में पहली बार हो रहा है.

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ये एक सामान्य सत्र है, कोई विशेष सत्र नहीं है जो इस तरह के फैसले हो रहे हैं. इसका मतलब ये हुआ कि आपके पास किसी सवाल का जवाब नहीं है. दिनेश त्रिवेदी ने कहा कि हम आम लोगों के लिए सवाल पूछ रहे हैं, ये लोकतंत्र के लिए खतरा है.

Advertisement

आपको बता दें कि कोरोना संकट की वजह से इस बार संसद सत्र में काफी बदलाव किए गए हैं. ऐसे में प्रश्नकाल को हटाया गया है, शून्य काल को कम किया गया है. यही कारण है कि इस मसले पर विपक्ष सरकार पर आग बबूला है. इस बार का सत्र 14 सितंबर से 1 अक्टूबर तक बिना किसी अवकाश के चलेगा.

 

Advertisement
Advertisement

Related posts

मांझी ब्राह्मण विवाद के बाद अब नीतीश सरकार को गिराने की धमकी

News Times 7

MP चुनाव के नतीजे बदल सकते हैं CM का चेहरा

News Times 7

कोलकाता के गणेश चंद्र एवेन्यू में लगी आग 12 साल के बच्चे सहित दो लोगों की मौत 

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़