News Times 7
क्राइम बड़ी-खबर ब्रे़किंग न्यूज़

बटला हाउसः इंस्पेक्टर शर्मा की शहादत को 12 साल बाद सलाम, गैलेंटरी अवॉर्ड

बटला हाउसः इंस्पेक्टर शर्मा की शहादत को 12 साल बाद सलाम, गैलेंटरी अवॉर्ड

बटला हाउस एनकाउंटर में शहीद हुए दिल्ली पुलिस के इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा को भी गैलेंटरी अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है. मोहन चंद शर्मा दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल में कार्यरत थे.

शहीद पुलिस इंस्पेक्टर एमसी शर्मा (फाइल फोटो)

बटला हाउस एनकाउंटर में शहीद हुए दिल्ली पुलिस के इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा को भी गैलेंटरी अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है. मोहन चंद शर्मा दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल में कार्यरत थे. शुक्रवार को गृह मंत्रालय ने गैलेंटरी अवॉर्ड का ऐलान किया है. देशभर के 215 पुलिसकर्मियों (मरणोपरान्त भी) को गैलेंटरी अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है.

दिल्ली का बाटला हाउस एनकाउंटर याद करते ही जांबाज़ इंस्पेक्टर मोहनचंद शर्मा की याद आ जाती है. उस दिन देश के हर टीवी न्यूज चैनल पर केवल बाटला हाउस की ख़बर थी. हर कोई जानना चाहता था कि आखिर वहां हुआ क्या है. लोग तब भी जानना चाहते थे आखिर मोहनचंद शर्मा कौन थे.

दरअसल, इस एनकाउंटर की कहानी 13 सितंबर 2008 को दिल्ली के करोल बाग, कनाट प्लेस, इंडिया गेट और ग्रेटर कैलाश में हुए सीरियल बम ब्लास्ट से शुरू होती है. उस ब्लास्ट में 26 लोग मारे गए थे, जबकि 133 घायल हो गए थे. दिल्ली पुलिस ने जांच में पाया था कि बम ब्लास्ट को आतंकी संगठन इंडियन मुजाहिद्दीन ने अंजाम दिया था. इस ब्लास्ट के बाद 19 सितंबर को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को सूचना मिली थी कि इंडियन मुजाहिद्दीन के पांच आतंकी बटला हाउस के एक मकान में मौजूद हैं. इसके बाद पुलिस टीम अलर्ट हो गई.

Advertisement

19 सितंबर 2008 की सुबह आठ बजे इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा की फोन कॉल स्पेशल सेल के लोधी कॉलोनी स्थित ऑफिस में मौजूद एसआई राहुल कुमार सिंह को मिली. उन्होंने राहुल को बताया कि आतिफ एल-18 में रह रहा है. उसे पकड़ने के लिए टीम लेकर वह बटला हाउस पहुंच जाए. राहुल सिंह अपने साथियों एसआई रविंद्र त्यागी, एसआई राकेश मलिक, हवलदार बलवंत, सतेंद्र विनोद गौतम आदि पुलिसकर्मियों को लेकर प्राइवेट गाड़ी में रवाना हो गए.

इस टीम के इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा डेंगू से पीड़ित अपने बेटे को नर्सिंग होम में छोड़ कर बटला हाउस के लिए रवाना हो गए. वह अब्बासी चौक के नजदीक अपनी टीम से मिले. सभी पुलिस वाले सिविल कपड़ों में थे. बताया जाता है कि उस वक्त पुलिस टीम को यह पूरी तरह नहीं पता था कि बटला हाउस में बिल्डिंग नंबर एल-18 में फ्लैट नंबर 108 में सीरियल बम ब्लास्ट के जिम्मेदार आतंकवादी रह रहे थे. उनका कहना है कि यह टीम उस फ्लैट में मौजूद लोगों को पकड़ कर पूछताछ के लिए ले जाने आई थी. जानिए क्या हुआ था उस दिन.

सुबह 10:55 बजे

Advertisement

एसआई धर्मेंद्र कुमार फोन कंपनी के सेल्समैन का लुक बनाए हुए थे. वह लैदर शूज पहन कर और टाई लगाए हुए थे. खुद को फोन कंपनी का एग्जेक्यूटिव बताते हुए वह फ्लैट के गेट खटखटाने लगे. अंदर सन्नाटा छा गया. बाकी पुलिस वाले नीचे इंतजार कर रहे थे. इसी बीच इंस्पेक्टर शर्मा सीढ़ियां चढ़ने लगे. दो पुलिसकर्मी नीचे खड़े रहे.

सुबह 11:05 बजे

पुलिस वालों ने ऊपर जाकर देखा कि सीढ़ियों के सामने इस फ्लैट में दो गेट हैं. उन्होंने बाईं ओर वाला दरवाजा अंदर की ओर धकेल दिया. पुलिस वाले अंदर घुस गए. उन्हें अंदर चार लड़के नजर आए. वह थे आतिफ अमीन, साजिद, आरिज और शहजाद पप्पू. सैफ नामक एक लड़का बाथरूम में था. दोनों ओर से धड़ाधड़ फायरिंग होने लगी.

Advertisement

सुबह 11:10 बजे

दोनों तरफ से फायरिंग खत्म हो चुकी थी. इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा को दो गोलियां लगी. हवलदार बलवंत के हाथ में गोली लगी. आरिज और शहजाद पप्पू दूसरे गेट से निकल कर भागने में कामयाब रहे. गोलियां लगने से आतिफ अमीन और साजिद की मौत हो गई. फायरिंग सुनकर लोग सीढ़ियों से नीचे भागने लगे. इसका फायदा उठाकर आरिज और शहजाद भी भाग गए.

सुबह 11:13 बजे

Advertisement

इसी बीच पुलिस ने दो आतंकियों को भागते समय गिरफ्तार कर लिया. इसके बाद ओवेस मलिक नामक एक शख्स ने 100 नंबर पर फोन करके फायरिंग की खबर दी. पीसीआर से जामिया नगर पुलिस चौकी को इस एनकाउंटर की खबर मिली. मेसेज फ्लैश कर दिया गया.

सुबह 11:20 बजे

महज 10 मिनट के अंदर इस गोलीबारी की खबर इलाके में फैल गई. इस मौके पर भारी भीड़ जमा हो गई. पुलिस भी भारी तादाद में पहुंच गई. उस फ्लैट को सील कर दिया गया.

Advertisement

शाम 5 बजे

होली फैमिली हॉस्पिटल में इलाज के दौरान इंस्पेक्टर शर्मा का निधन हो गया. इंस्पेक्टर शर्मा ने अपनी 21 साल की पुलिस की नौकरी में 60 आतंकियों को मार गिराया था, जबकि 200 से ज्यादा खतरनाक आतंकियों और अपराधियों को गिरफ्तार भी किया था, लेकिन बटला हाउस का यह एनकाउंटर आखिरी साबित हुआ.

13 सितंबर, 2008

Advertisement

दिल्ली के करोल बाग, कनाट प्लेस, इंडिया गेट और ग्रेटर कैलाश में पांच सिलसिलेवार बम धमाके हुए. इनमें 26 लोग मारे गए. सैकड़ों लोग घायल हुए.

19 सितंबर, 2008

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के इंस्पेक्टर मोहन चंद्र शर्मा के नेतृत्व में विशेष टीम और जामिया नगर के बटला हाउस के एल-18 मकान में छिपे इंडियन मुजाहिद्दीन के आतंकवादियों में मुठभेड़ हुई. पुलिस ने दावा किया कि मुठभेड़ में दो आतंकी मारे गए, दो गिरफ्तार किए गए और एक फरार हो गया.

Advertisement

मुठभेड़ में घायल इंस्पेक्टर मोहन चंद्र शर्मा को होली फैमिली अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां आठ घंटे इलाज के बाद उनकी मौत हो गई. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक, उन्हें पेट, जांघ और दाहिने हाथ में गोली लगी थी. उनकी मौत खून बहने के कारण हुई. पुलिस ने उनकी मौत के लिए शहजाद को जिम्मेदार ठहराया

21 सितंबर, 2008

पुलिस ने कहा कि उसने इंडियन मुजाहिदुदीन के तीन कथित आतंकियों और बटला हाउस के एल-18 मकान की देखभाल करने वाले व्यक्ति को गिरफ्तार किया. दिल्ली में हुए विस्फोटों के आरोप में पुलिस ने कुल 14 लोग गिरफ्तार किए गए हैं, जो दिल्ली और यूपी के है. मानवाधिकार संगठनों ने एनकाउंटर को फर्जी बताते हुए जांच की मांग की.

Advertisement

21 मई, 2009

दिल्ली हाईकोर्ट ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग से पुलिस के दावों की जांच कर दो महीने में रिपोर्ट पेश करने के लिए कहा.

22 जुलाई, 2009

Advertisement

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने दिल्ली हाईकोर्ट के सामने अपनी रिपोर्ट पेश की. रिपोर्ट में दिल्ली पुलिस को क्लीन चिट दी गई.

26 अगस्त, 2009

दिल्ली हाईकोर्ट ने एनएचआरसी की रिपोर्ट स्वीकार करते हुए न्यायिक जांच से इनकार कर दिया.

Advertisement

30 अक्टूबर, 2009

हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर की गई, लेकिन उसने भी इंकार कर दिया.

19 सितंबर, 2010

Advertisement

बटला हाउस एनकाउंटर के दो साल पूरे होने पर दिल्ली की जामा मस्जिद के पास मोटर साइकिल सवारों ने विदेशी पर्यटकों पर गोलीबारी की. इसमें दो ताइवानी नागरिक घायल हुए.

6 फरवरी, 2010

पुलिस इंस्पेक्टर मोहन चंद्र शर्मा की मौत के सिलसिले में पुलिस ने शहजाद अहमद को गिरफ्तार किया.

Advertisement

20 जुलाई, 2013

अदालत ने शहजाद अहमद के मामले में सुनवाई पूरी करने के बाद फैसला सुरक्षित किया.

25 जुलाई, 2013

Advertisement

अदालत ने शहजाद अहमद को दोषी करार दिया.

30 जुलाई, 2013

अदालत ने शहजाद अहमद को उम्रकैद की सजा दी.

Advertisement

24 मई, 2016

आतंकी संगठन आईएसआईएस की ओर से जारी एक वीडियो में दो संदिग्‍ध आतंकी आतंकी अबु राशिद और मोहम्‍मद साजिद नजर आए. राशिद बटला हाऊस एनकाउंटर के बाद से फरार है, जबकि साजिद अहमदाबाद और जयपुर ब्‍लास्‍ट में शामिल था. दोनों साल 2008 के बाटला हाऊस कांड के बाद से फरार चल रहे हैं.

Advertisement
Advertisement

Related posts

कोरोना मरीजों की संख्या में भारत ने ब्राजील को पीछे छोड़ा

News Times 7

सारण पुलिस के हाथ लगी कामयाबी, पेट्रोल पंप के प्रबंधक से हुई लूट मामले में 4 अपराधी गिरफ्तार

News Times 7

नीतीश सरकार वसूलेगी पानी पर टैक्स 5 श्रेणियों में होगी वसूली; जानें कब से होगी वसूली

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़