News Times 7
टॉप न्यूज़बड़ी-खबरब्रे़किंग न्यूज़राजनीति

झारखंड की सियासत में दमदार मौजूदगी दर्ज कराने वाली हेमंत सोरेन की विधायक पत्नी कल्पना सोरेन अब क्या करेंगी?

रांची : जेल से जमानत पर बाहर निकले पति हेमंत सोरेन तीसरी बार झारखंड के CM बन गए हैं. आने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर अनुकूल माहौल बन रहा है. लोकसभा चुनाव में विरोधी पार्टी BJP को बड़ा नुकसान पहुंचा है. परिवार से बगावत करने वाली बड़बोली जेठानी सीता सोरेन को भी मुंह की खानी पड़ी है. लोकसभा चुनाव में जीत से कैडर के हौसले बुलंद हैं. कार्यकर्ता और जनता का भरपूर साथ मिल रहा है. झारखंड के सबसे बड़ी सियासी खानदान यानी सोरेन परिवार की सारी मुश्किलें धीरे-धीरे दूर होने लगी हैं. तो सवाल उठ रहा है कि हेमंत सोरेन की गैरमौजूदगी में झारखंड की सियासत में दमदार मौजूदगी दर्ज कराने वाली उनकी विधायक पत्नी कल्पना सोरेन अब क्या करेंगी? आने वाले कैबिनेट विस्तार में उन्हें मंत्री की कुर्सी मिलेगी या फिर वो पार्टी संगठन में कोई बड़ी भूमिका निभाएंगी. फिलवक्त झारखंड के चौक-चौराहों पर चाय की चुस्कियों के बीच इसी बात पर जोर-शोर से चर्चा हो रही है.

28 जून की दोपहर करीब साढ़े 11 बजे झारखंड हाईकोर्ट से हेमंत सोरेन को जमानत मिलने की खबर आई. तो सबसे ज्यादा खुशी पत्नी कल्पना सोरेन को हुई. इधर ट्रायल कोर्ट में बेल बॉन्ड भरने की प्रक्रिया चल रही थी. उधर पत्नी कल्पना सोरेन पति हेमंत सोरेन को लेने के लिए बिरसा मुंडा जेल की ओर निकल पड़ी थीं. कुछ घंटे बाद जैसे ही जमानत की प्रक्रिया पूरी हुई. जेल का गेट खुला और 150 दिन बाद हेमंत सोरेन बाहर निकले. उनके स्वागत में पत्नी कल्पना सोरेन पहले से खड़ी थीं. जेल से वो उनके साथ घर पहुंचीं. जहां JMM कार्यकर्ताओं ने दोनों का गर्मजोशी के साथ स्वागत किया. हेमंत सोरेन ने कार्यकर्ताओं के सामने जोशीला भाषण दिया. तो हेमंत सोरेन और कल्पना सोरेन के नारे जोर-शोर से लगने लगे.

30 जून को साहिबगंज के भोगनाडीह में हूल दिवस मनाया गया. तो अमर शहीद सिदो-कान्हू और फूलो-झानो को श्रद्धांजलि देने के लिए पति हेमंत सोरेन के साथ पत्नी कल्पना सोरेन भी गईं. इस समारोह के जरिए JMM ने एक बार फिर अपनी ताकत दिखाई. 3 जुलाई को हेमंत सोरेन के आवास पर सत्ताधारी गठबंधन के विधायकों की बैठक हुई. इसी बैठक में हेमंत सोरेन को फिर से मुख्यमंत्री बनाने की पटकथा लिखी गई. बैठक स्थल पर सबसे आगे हेमंत सोरेन, कांग्रेस प्रभारी गुलाम अहमद मीर और तत्कालीन मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन बैठे थे. तो विधायकों की तीसरी पंक्ति में कांग्रेस विधायक दीपिका पांडेय सिंह और JMM विधायक सविता महतो के बीच में कल्पना सोरेन भी बैठी नजर आईं. पर इससे पहले हेमंत सोरेन के जेल जाने के दौरान होने वाली संगठन और गठबंधन की तमाम बैठकों में कल्पना सोरेन को सबसे आगे की पंक्ति में बैठे देखा जाता रहा था. इसी बैठक के बाद चंपाई सोरेन ने राज्यपाल को इस्तीफा सौंपा और साथ ही साथ हेमंत सोरेन ने नई सरकार बनाने का दावा पेश किया. इस दौरान राज्यपाल के सामने हुई विधायकों की परेड में कल्पना सोरेन भी शामिल हुईं. 4 जुलाई को राज्यपाल ने हेमंत सोरेन को नई सरकार बनाने का न्योता दिया. तो उस समय भी वो हेमंत सोरेन के साथ दिखीं.

Advertisement
Advertisement

Related posts

भारत ने चीन को दिया एक और बड़ा झटका

News Times 7

झारखंड में हेमंत सोरेन समेत 8 विधायकों की कुर्सी खतरे में, 2023 में हो सकता है उपचुनाव पर फैसला

News Times 7

बिहार की राजनीती में शाहनवाज हुसैन का बड़ा दावा कहा बिहार का अगला मुख्यमंत्री बीजेपी का ही होगा

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़