News Times 7
टॉप न्यूज़बड़ी-खबरब्रे़किंग न्यूज़

भारत से चावल खरीदने को चीन हुआ मजबूर

चीन ने दो साल के अंतराल के बाद भारतीय चावल का आयात शुरू किया है. भारतीय निर्यातकों की ओर से दूसरे देशों की तुलना में प्रतिस्पर्धी दाम की पेशकश के बाद इस पड़ोसी देश ने 5,000 टन गैर-बासमती चावल के आयात का ऑर्डर दिया है. अखिल भारतीय चावल निर्यातक संघ (एआईआरईए) ने यह जानकारी दी है.

भारत दुनिया में चावल का प्रमुख निर्यातक देश है, जबकि चीन सबसे बड़ा आयातक देश है. वर्ष 2006 में, चीन को भारतीय चावल के लिए बाजार पहुंच प्रदान की गई थी, लेकिन उसकी तरफ से आयात वित्तवर्ष 2017-18 के दौरान ही हो पाया.

Advertisement

चीन ऐसे समय भारत से चावल की खरीद कर रहा है जब दोनों देशों के बीच सीमा पर तनाव की स्थिति है. एआईआरईए के कार्यकारी निदेशक विनोद कौल ने कहा, ‘हालांकि वर्ष 2006 में बाजार पहुंच दी गई थी, लेकिन चीन ने वित्तवर्ष 2017-18 में लगभग 974 टन गैर-बासमती चावल का आयात किया. अब दो वर्षों के अंतरराल के बाद हमसे आयात के लिए पूछताछ शुरू हुई है.’

Advertisement

विनोद कौल ने कहा कि वित्तवर्ष 2020-21 में अक्टूबर तक 150 टन तक बासमती चावल का निर्यात किया गया है. पिछले दो महीनों में, चीन ने दक्षिण भारत से लगभग 5,000 टन टुकड़े वाले गैर-बासमती चावल के आयात के लिए आर्डर दिए हैं. टूटे चावल का उपयोग नूडल्स के साथ-साथ वाइन उद्योग में भी किया जाता है. कौल ने कहा कि चीन ने भारत से चावल खरीदने में दिलचस्पी दिखाना शुरू कर दिया है. उन्होंने कहा कि यह इसलिए है क्योंकि पड़ोसी देश थाईलैंड और वियतनाम जैसे अपने अन्य आयात स्थलों पर कोविड-19 के मद्देनजर उत्पादन और व्यापार के प्रभावित होने की वजह से सीमित आपूर्ति की स्थिति का सामना कर रहा है.

Advertisement

Related posts

तेजस्वी और तेजप्रताप के भाग्य का फैसला जनता के मतदान से आज, साथ ही 10राज्यो मे उपचुनाव

News Times 7

किसान आंदोलन के चलते हरियाणा में अगले 2 दिन इन 7 जिलों में बंद रहेगा इंटरनेट, आदेश जारी

News Times 7

बोरे में 50 लाख रुपये लेकर घूमता हुआ मिला एक आदमी पुलिस ने किया गिरफ्तार

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़