News Times 7
अध्यात्म टॉप न्यूज़ बड़ी-खबर

इस बार छठ पर्व पर ग्रह नक्षत्रों का शुभ संयोग है जरूर पढ़ें और शेयर करें

लोक आस्था के महापर्व छठ को इस साल भी देश में पूरे धूमधाम से मनाया जा रहा है बिहार ही नहीं भारत के अन्य राज्यों में भी छठ पूजा पूरी आस्था के साथ मनाया जा रहा है अपने अखंड आस्था और श्रद्धा के लिए मशहूर छठ पर्व बिहार उत्तर प्रदेश सहित देश का एक बहुत बड़ा पर्व है 3 दिनों तक चलने वाले इस महापर्व की शुरुआत नहाए खाए के साथ शुरू हो चुका है छठ की शुरुआत पहली संध्या के साथ हो जाएगी!  इस साल छठ पर्व 20 नवंबर को मनाया जा रहा है इस पर्व में भगवान सूर्य की विशेष उपासना की जाती है छठ पर्व में ग्रह और नक्षत्रों का विशेष ध्यान रखा जाता है लेकिन एक शुभ संयोग इस बार छठ पर्व में बन रहा है इस महोत्सव की शुरुआत रवि योग में हो रही है और हर दिन यह योग बन रहा है रवि योग में ही भगवान सूर्य को दोनों अंक दिए जाएंगे सूर्य की विशेष स्थिति के कारण यह संयोग बनता है छठ महोत्सव में एक द्विपुष्कर  और स्वार्थसिद्धि और चार रवि योग बन रहे हैं आखिरी तीन शुभ योगों का होना भी इस पर्व को और भी खास बना रहा है

रवियोग: सूर्य का विशेष प्रभाव होने से इस योग को शुभ और बेहद प्रभावशाली भी माना जाता है। सूर्य की पवित्र ऊर्जा से भरपूर होने से इस योग में किए गए काम में सफलता की संभावना बहुत बढ़ जाती है। साथ ही अनिष्ट की आंशका भी खत्म हो जाती है। इसे दुख को खत्म करने वाला और मनोकामना पूरी करने वाला योग भी कहा जाता है। इस शुभ योग में सूर्य को अर्घ्य देने से रोग खत्म होते हैं और उम्र बढ़ती है।

18 को नहाय खाय और 21 को आखिरी अर्घ्य
सूर्य देवता को समर्पित चार दिवसीय छठ पर्व आज से शुरू हो रहा है। ये व्रत संतान की लंबी उम्र की कामना से किया जाता है। इस महोत्सव में नहाय-खाय का विधान 18 नवंबर को किया जाएगा। 19 को खरना, 20 को संध्याकालीन अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा और इस पर्व के आखिरी दिन 21 तारीख को उदय होते सूर्य को अर्घ्य देने के बाद पारण करके व्रत पूरा किया जाएगा।

Advertisement

किस दिन कौन सा शुभ योग
18 नवंबर: रवियोग सूर्योदय से सुबह 10.40 तक
19 नवंबर: रवियोग सुबह 9:40 से दोपहर 2:30 तक
20 नवंबर: सर्वार्थसिद्धि और रवियोग, पूरे दिन
21 नवंबर: द्विपुष्कर योग पूरे दिन, सर्वार्थसिद्धि और रवियोग योग सुबह 9:55 तक

36 घंटे तक रहते हैं बिना पानी पीए
छठ पूजा चार दिवसीय उत्सव है। इसकी शुरुआत कार्तिक महीने के शुक्लपक्ष की चतुर्थी तिथि से होती है और समापन सप्तमी को होता है। छठ व्रत करने वाले लगातार 36 घंटे का निर्जला उपवास रखते हैं। इस व्रत में शुद्धता पर बहुत ज्यादा ध्यान दिया जाता है, जिससे इसे कठिन व्रतों में एक माना जाता है।

Advertisement
Advertisement

Related posts

दुनिया में पैदा हुई यह नई बीमारी,तेज बुखार के बाद नाक के रास्ते अत्यधिक रक्तस्राव की वजह से हो रही है मौत

News Times 7

महात्मा गांधी के 73वें पुण्यतिथि पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने किया नमन,आइए जानते हैं महात्मा गांधी की हत्या के कारण और गोडसे की पृष्ठभूमि

News Times 7

जल्द शुरु होगा कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा चरण, PM मोदी से लेकर मुख्यमंत्रियों तक सभी को लगेगा टीका…

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़