News Times 7
कोरोना टॉप न्यूज़ बड़ी-खबर बिचार

प्रधानमंत्री मोदी ने भी रैलियों मे कोरोना नियमों को रखा ताख पर

बिहार विधानसभा चुनाव मे हर बडा नेता न खुद के जान की परवाह की न लोगो के जान की, भाजपा के तीन बडे नेताओं ने कोरोना के सारे नियम कानून को ताख पर रख कर बडी रैलियाँ औरै सभाओं को संबोधित किया, वैसे देखा जाऐ तो कोई दुध का धुला नही हो जब प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना के नियमों की धज्जियां उडा दि तो बाकी की बात ही क्या करें , बिहार के बड़े नेताओं ने अनेको रोड शो, रैलियों, सभाओं को कर के कोरोना को बिहार मे फिर से आमंत्रण का मौका दे दिया है, इन बीच राजीव प्रताप रूढी, शहनवाज हुसैन, सुशील मोदी जैसे नेता कोरोना के चपेट मे आ गये हैं, और न जाने कितनो को बाटे होंगे! चुनाव मे मर्यादा तो ताख पर रहती ही है पर महामारी की भी परवाह न करना ये बिहार पर भारी पड सकता हैं! बात पक्ष और विपक्ष की नही राहुल गाँधी हो या तेजस्वी यादव सब एक ही लाईन मे खडे रहे बिना इस बात की परवाह के के की कोरोना का संक्रमण अभी पर्याप्त है

  • प्रदेश के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी में कोरोना के लक्षण, पटना एम्स में भर्ती होने के बाद हो रहा सेहत में सुधार
  • राजीव प्रताप रूडी और शाहनवाज हुसैन के बाद बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी भी कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। एक साथ तीन बड़े नेताओं का संक्रमित होना भाजपा के लिए कोरोना बम से कम नहीं है। सुशील मोदी ने तो ट्वीट कर संक्रमित होने की जानकारी दे दी है, लेकिन अन्य दोनों नेताओं ने खुद से कुछ नहीं बताया।

    Advertisement

1. सुशील कुमार मोदी, डिप्टी सीएम
सुशील मोदी के फेसबुक पेज पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक 3 दिन पहले सुशील मोदी फारबिसगंज में एनडीए प्रत्याशी विद्यासागर केसरी की नामांकन सभा में शामिल हुए थे। इसमें समर्थकों में सोशल डिस्टेंसिंग नहीं दिखी। पांच दिन पहले उन्होंने एक इंटरव्यू दिया, जिसमें उनके साथ समर्थकों की भीड़ दिख रही है। मास्क उतारकर भाषण देते डिप्टी सीएम के पीछे समर्थकों में सोशल डिस्टेंस नहीं दिखा।

पांच दिन पहले की पोस्ट में राजपुर विधानसभा क्षेत्र के एनडीए प्रत्याशी संतोष निराला के पक्ष में जनसभा की, जिसमें संबोधन के दौरान उन्हें एक बार खांसी भी आई। इसी तरह 15 अक्टूबर को जमुई विधानसभा में एनडीए प्रत्याशी श्रेयसी सिंह के पक्ष में सभा की। 14 अक्टूबर को वजीरगंज विधानसभा के एनडीए प्रत्याशी वीरेंद्र सिंह के पक्ष में सभा की थी, 13 अक्टूबर को रामगढ़ के एनडीए प्रत्याशी अशोक सिंह के समर्थन में सभा की, 12 अक्टूबर को झंझारपुर में भाजपा प्रत्याशी नीतीश मिश्रा के पक्ष में जनसभा को संबोधित किए थे।मोदी 15 अक्टूबर को औरंगाबाद में चुनावी जनसभा के दौरान मंच पर बिना मास्क के दिखे और सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन नहीं किया। पांव छूता प्रत्याशी क्लोज कॉन्टैक्ट में आया।

सुशील मोदी के ट्विटर हैंडल पर जो जानकारी मिली है, उसके अनुसार 3 दिन पहले कटिहार, फारबिसगंज और नरपतगंज में हुई चुनावी सभा में शहनवाज हुसैन और सुशील मोदी साथ थे। 5 दिन पहले सुशील मोदी ने भभुआ में रिंकी रानी के पक्ष में रोड शो किया इसमें भीड़ के साथ फोटो ट्वीट की है। 6 दिन पहले उन्होंने आरा और मोहनिया में भीड़ के साथ की फोटो ट्वीट की। 15 अक्टूबर को होटल चाणक्या में प्रेस कॉन्फ्रेंस, औरंगाबाद और गुरुआ विधानसभा में एनडीए प्रत्याशी राजीव नंदन के पक्ष में जनसभा, इनमें बिना मास्क के नजदीकी देखी गई।

Advertisement

2. राजीव प्रताप रूडी, सांसद
कोरोना पॉजिटिव हुए, लेकिन खुद से कोई जानकारी नहीं दी। हालांकि, मीडिया में खबरें आने के बाद से ही किसी कार्यक्रम में नहीं देखे गए हैं। 5 दिन पहले रूडी ने अमनौर के कार्यकर्ताओं के साथ की फोटो फेसबुक पर पोस्ट की है। 6 दिन पहले सारण में नमामि गंगे परियोजना के तहत अधिकारियों के साथ बैठक में बिना मास्क के शरीक हुए। उसी दिन सोनपुर में एक श्रद्धांजिल सभा में भी शामिल हुए। 15 अक्टूबर को अमनौर, 14 अक्टूबर को छपरा की फोटो पोस्ट की है। इनमें भी सोशल डिस्टेंसिंग नहीं है।

3. शहनवाज हुसैन, भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता
भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन भी कोरोना पॉजिटिव हुए हैं, हालांकि उन्होंने खुद से इसकी कोई जानकारी नहीं दी है। शाहनवाज ने 21 अक्टूबर को एक खबर पोस्ट की है, जिसमें वो मौजूद रहे। उन्होंने 20 अक्टूबर मीडिया सेंटर में प्रेस कॉन्फ्रेंस की। 3 दिन पहले फारबिसगंज, पूर्णिया और कटिहार की फोटो शेयर की है। इनमें वो सुशील मोदी के साथ हैं।

शाहनवाज हुसैन 19 अक्टूबर को फारबिसगंज में चुनावी सभा के दौरान मंच पर डिप्टी सीएम सुशील मोदी के साथ मौजूद रहे, पर सोशल डिस्टेंसिंग नहीं दिखी।

Advertisement

4. नरेंद्र सिंह, पूर्व कृषि मंत्री

बिहार सरकार में कृषि मंत्री रहे नरेंद्र सिंह कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्हें पटना एम्स में भर्ती कराया गया है। वे अपने बेटे और जमुई विधानसभा से रालोसपा प्रत्याशी अजय प्रताप के पक्ष में वोट करने के लिए लगातार कैंपेनिंग कर रहे थे। इस दौरान वे हर दिन सैकड़ों समर्थकों से मिले।

उधर, अजय प्रताप के नामांकन के दौरान काफी भीड़ रही। इसमें कोरोना गाइडलाइन फेल होते दिखी। अजय और उनके समर्थकों ने सोशल मीडिया पर जो वीडियो पोस्ट की, उसमें भी कोरोना की गाइडलाइन का पालन होता नहीं दिख रहा है। पूर्व मंत्री को लेकर समर्थकों का कहना है कि वह इधर 10 दिनों में जमुई और चकाई में लगातार कैंपेनिंग कर रहे थे। दो दर्जन से अधिक गांवों में जाकर वह खुद कैंपेनिंग भी की। इस दौरान वे सैकड़ों लोगों के संपर्क में आए। उनके बेटे अजय प्रताप भी लगातार दौरा कर रहे हैं और रोज सैकड़ों लोगों के संपर्क में आ रहे हैं।

Advertisement

 

Advertisement

Related posts

आपदा में भी अवसर, अडानी की संपत्ति 230% बढी संजय सिंह बोले मोदी जी के मित्रों के लिए आपदा भी अवसर हो गया, तो जनता भूखे क्यों ?

News Times 7

जवान-किसान खिलाफ, समझो दंभी सत्ता के दिन बचे हैं चार- अखिलेश

News Times 7

नेपाल में पीएम ओली को संसदीय पार्टी के नेता पद से हटाया गया, प्रचंड को मिली कमान…

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़