News Times 7
Other

चुनाव: नीतीश कुमार की पहली वर्चुअल रैली

लालू-राबड़ी के राज पर साधा निशानाआज नितीश कुमार की रैली:  आभासी रैली में बोलते नीतीश कुमार

बिहार में कुछ महीनों बाद विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को आभासी रैली के जरिए चुनावी बिगुल फूंका है। अपनी पहली आभासी रैली में उन्होंने कहा कि कोरोना के कहर को देखते हुए हमने केंद्र से पहले ही लॉकडाउन शुरू किया। अब अनलॉक शुरू हो चुका है। हम केंद्र के दिशानिर्देशों का पालन कर रहे हैं।

लालू और राबड़ी पर निशाना साधते हुए नीतीश ने कहा कि हमसे पहले जो लोग सत्ता में थे उन्होंने क्या किया। कब्रिस्तान और मंदिरों का ही हाल देख लीजिए। न कब्रिस्तान की घेराबंदी थी और न ही मूर्ति चोरी रोकने के उपाय। हमनें 6,099 कब्रिस्तानों की घेराबंदी करवाई। मंदिर में मूर्ति चोरी रोकने के लिए 226 मंदिरों में चारदीवारी का निर्माण कार्य पूरा किया। हमने भागलपुर दंगों की जांच पूरी करवाई। जब हमें काम करने का मौका मिला तो हमने लक्ष्य रखा कि कहीं से भी राजधानी पटना आने में 6 घंटे से ज्यादा का समय न लगे। ये लक्ष्य पूरा हो गया है।
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि पहले बिहार में क्या हो रहा था। 15 साल तक पति-पत्नी का राज चला, सामूहिक नरसंहार होता था। पहले लोग गवाही देने से भागते थे, अब गवाही देने लगे। पहले शाम होने से पहले लोग घर के अंदर चले जाते थे। राइफले औंर बंदूकें दिखाई जाती थी। अब अपराध के ग्राफ में गिरावट आई है। 2005 में हमने सत्ता संभाली और तब से हम अपराध पर जीरो टॉलरेंस का रुख अपनाए हुए हैं। बिहार में ज्यादातर अपराध की वजह भूमि विवाद है। इसके अलावा आपस में लोग परिवार का बंटवारा नहीं करते थे क्योंकि रजिस्ट्री का चार्ज काफी ज्यादा होता था। लेकिन अब परिवार में बंटवारे के लिए 100 रुपये का सांकेतिक रजिस्ट्री चार्ज लगता है।

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘हम रोजगार सृजन भी कर रहे हैं। बोलने वाले पता नहीं कुछ भी बोल रहे हैं, उन्हें पता भी नहीं कि क्या काम चल रहा है। राज्य सरकार की तरफ से 5,50,246 योजनाओं में 14 लाख से ज्यादा रोजगार का सृजन किया गया है। औसतन प्रतिदिन लगभग दस लाख लोगों को काम मिल रहा है। हम आपदा पीड़ितों की पूरी मदद करते हैं। बिहार में हर साल बाढ़ आती है। हम प्रकार से लोगों के लिए काम करते हैं। अगर सड़कें टूटती हैं तो उसे भी हम बनाते हैं। हम लोगों को आश्वस्त करना चाहते हैं कि जो भी जरूरी काम है, जब तक आपने काम करने का मौका दिया है, तब तक हम काम करते रहेंगे।’

रैली को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि दरभंगा में हमने जब एक क्विंटल अनाज बांटा तो हमें क्विंटलिया बाबा कहने लगे। पहले कभी कुछ मिलता था। हम तीन हजार रुपये अनाज के लिए देते हैं। अब हम लोगों के खाते में अनुग्रह राशि पहुंचा देते हैं। हम फसल की क्षति का आकलन करवाकर उसका लाभ देते हैं। हम फसल सहायता योजना के तहत मदद करते हैं। बाढ़ से जो पीड़ित लोग हैं उसका हम प्रबंधन करते है। हमने पहले ही कह दिया था कि सरकार के खजाने पर पहला हक आपदा पीड़ित लोगों का है। ये 2007 से चल रहा है।

Advertisement

Download Amar Ujala App for Breaking News in Hindi & Live Updates. https://www.amarujala.com/channels/downloads?tm_source=text_share

Advertisement

Related posts

अन्नदाताओं के लिए अच्छी खबर : प्रधानमंत्री फसल बीमा रजिस्ट्रेशन की तारीख 31 अगस्त तक बढ़ेगी जानिये आगे

News Times 7

बजट अब एक इवेंट बन गया है, आम आदमी को कोई राहत नहीं मिली- बीजेपी की हार तय है: सचिन पायलट

News Times 7

काशी विश्वनाथ की नगरी वाराणसी पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ,काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर का करेंगे लोकार्पण

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़