News Times 7
टॉप न्यूज़ ब्रे़किंग न्यूज़

गेहूं की बढ़ती कीमतों के बीच केंद्र सरकार ने लिया बड़ा फैसला, जानिये क्या ?

शनिवार को सरकार ने गेहूं की बढ़ती कीमतों के बीच एक बड़ा फैसला किया है। सरकार ने गेहूं के निर्यात पर तत्काल प्रभाव से बैन लगा दिया। गेहूं को प्रतिबंधित श्रेणी में रखा गया है। सरकार की ओर से कहा गया है कि देश की खाद्य सुरक्षा के मद्देनजर यह कदम उठाया गया है। साथ ही पड़ोसी देशों और गरीब देशों को समर्थन करने के लिए भी ऐसा करना जरूरी था। इस बीच आपको बता दें कि जिन देशों को पहले ही इसके निर्यात की अनुमति दी जा चुकी है, उन्हें इसका निर्यात जारी रहेगा।

पंजाब ने सबसे अधिक गेहूं खरीदा, सबसे ज्यादा लक्ष्य रखने वाला मध्य प्रदेश  दूसरे स्थान पर | TV9 Bharatvarsh

डीजीएफटी की अधिसूचना में दी गई जानकारी
विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) ने 13 मई को जारी अधिसूचना में कहा है कि इस अधिसूचना की तारीख या उससे पहले जिस खेप के लिए अपरिवर्तनीय ऋण पत्र (एलओसी) जारी किए गए हैं, उसके निर्यात की अनुमति होगी। गौरतलब है कि रूस और यूक्रेन के बीच जारी जंग से पूरी दुनिया में गेहूं की कीमतों में जोरदार इजाफा हुआ है। भारत में भी घरेलू स्तर पर गेहूं की कीमत बढ़ी है। कई प्रमुख राज्यों में सरकारी खरीद की प्रक्रिया काफी सुस्त चल रही है और लक्ष्य से काफी कम गेहूं की खरीदारी हुई है। इसकी वजह यह है कि किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) से ज्यादा कीमत बाजार में मिल रही है।

russia ukraine war will create wheat crisis in the world india could offer  help to increase export | रूस-यूक्रेन युद्ध से दुनिया में पैदा होगा गेहूं  संकट, निर्यात बढ़ाकर भारत कर सकता

अप्रैल महीने में रिकॉर्ड गेहूं का निर्यात हुआ
गौरतलब है कि भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा गेहूं उत्पादक। देश ने वित्त वर्ष 2021-22 कुल 70 लाख टन गेहूं का निर्यात किया, जबकि बीते अप्रैल महीने की बात करें तो भारत ने रिकॉर्ड 14 लाख टन गेहूं का निर्यात किया है। यहां बता दें कि देश में महंगाई आसमान छू रही है, खुदरा महंगाई एक बार फिर लंबी छलांग मारते हुए अप्रैल महीने में 7.79 फीसदी पर पहुंच चुकी है। इस बीच अप्रैल में खाद्य पदार्थों पर महंगाई 8.38 फीसदी के स्तर पर पहुंच चुकी है। गेहूं की कीमतों में उछाल आने के बाद केंद्र सरकार ने लिया बड़ा फैसला, तत्काल  प्रभाव से निर्यात पर लगाई रोक | TV9 Bharatvarsh

Advertisement

प्याज प्रतिबंधित श्रेणी से बाहर आई
बता दें कि रूस-यूक्रेन जंग के चलते अंतरराष्ट्रीय बाजारों में गेहूं की कीमता में 40 फीसदी से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है, जिससे गेहूं का निर्यात बढ़ा है। इसके अनुरूप घरेलू स्तर पर मांग बढ़ने के बीच गेहूं और गेहूं के आटे के दाम भी आसमान छू रहे हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, पिछले साल के मुकाबले आटे की कीमत में अब तक करीब 13 फीसदी की तेजी आ चुकी है। गेहूं के निर्यात पर तत्काल प्रभाव से बैन लगाने के साथ ही डीजीएफटी ने एक दूसरी अधिसूचना में जानकारी दी कि प्याज के बीज की निर्यात नीति में भी बदलाव किया गया है और इसे तत्काल प्रभाव से सीमित श्रेणी के तहत रखा गया है। यहां बता दें कि इससे पहले प्याज के बीज का निर्यात भी प्रतिबंधित श्रेणी में था।

Advertisement

Related posts

राजस्थान- गहलोत का बजट सबसे अलग, कृषि, हेल्थ और एजुकेशन पर फोकस ,कृषि बजट का होगा अलग से ऐलान

News Times 7

कोरोना ने मचाया कोहराम 24 घंटे में कोरोना के केस 2 लाख 64 हज़ार के पार

News Times 7

राजस्थान के सियासी संग्राम में गहलोत सुरक्षित, पायलट बनाए जा सकते हैं महासचिव

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़