News Times 7
टॉप न्यूज़ शिक्षा

सरकार का बड़ा ऐलान -मेडिकल एजुकेशन के क्षेत्र में अब इन्हे भी मिलेगा आरक्षण का लाभ

मेडिकल एजुकेसन लेने वाले छात्रों के लिए मोदी सरकार ने एक बड़ा ऐलान किया है,

अब ऑल इंडिया कोटे के तहत अंडरग्रेजुएट/पोस्ट ग्रेजुएट, मेडिकल तथा डेंटल शिक्षा में अब ओबीसी वर्ग (OBC) के छात्रों को 27% और कमजोर आय वर्ग (EWS) के छात्रों को 10% आरक्षण दिया जाएगा. केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मांडविया ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है. मांडविया ने अपने ट्वीट में लिखा है, ‘इस निर्णय से मेडिकल तथा डेंटल शिक्षा में प्रवेश के लिए OBC तथा आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (EWS) से आने वाले 5,550 छात्र लाभान्वित होंगे. देश में पिछड़े तथा कमजोर आय वर्ग के उत्थान के लिए उन्हें आरक्षण देने को सरकार प्रतिबद्ध है.

मोदी सरकार का बड़ा फैसला: मेडिकल कोर्स में OBC को 27% और EWS को 10 फीसदी  आरक्षण, हजारों छात्रों को मिलेगा लाभ | Medical Education Reservation by  Government to OBC EWS Candidates

Advertisement

इन वर्ग के छात्रों को होगा लाभ
मोदी सरकार के इस निर्णय से हर साल एमबीबीएस में लगभग 1500 ओबीसी छात्रों और स्नातकोत्तर में 2500 ओबीसी छात्रों और एमबीबीएस में लगभग 550 ईडब्ल्यूएस छात्रों और स्नातकोत्तर में लगभग 1000 ईडब्ल्यूएस छात्रों को लाभ होगा. अखिल भारतीय कोटा (एआईक्यू) योजना 1986 में माननीय सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशों के तहत शुरू की गई थी ताकि किसी भी राज्य के छात्रों को दूसरे राज्य में स्थित एक अच्छे मेडिकल कॉलेज में अध्ययन करने के लिए अधिवास-मुक्त योग्यता आधारित अवसर प्रदान किया जा सके.Reservation for obc and ews student in medical dental ug pg courses

अखिल भारतीय कोटा में कुल उपलब्ध यूजी सीटों का 15% और सरकारी मेडिकल कॉलेजों में कुल उपलब्ध पीजी सीटों का 50% शामिल है. शुरुआथ में, 2007 तक AIQ योजना में कोई आरक्षण नहीं था. 2007 में सर्वोच्च न्यायालय ने AIQ योजना में SC के लिए 15% और ST के लिए 7.5% आरक्षण की शुरुआत की.

Reservation in Medical College: मेडिकल कॉलेजों में सरकारी स्कूलों के  छात्रों को मिलेगा 7.5% आरक्षण, सरकार ने लिया ये अहम फैसला - Reservation in  medical college students of government schools will get reservation in  medical colleges the government took this ...

Advertisement

जब 2007 में केंद्रीय शैक्षणिक संस्थान (प्रवेश में आरक्षण) अधिनियम प्रभावी हुआ तो ओबीसी को एक समान 27% आरक्षण प्रदान किया गया. इसे सभी केंद्रीय शैक्षणिक संस्थानों में लागू किया गया था. सफदरजंग अस्पताल, लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय आदि. हालांकि इसे राज्य के मेडिकल और डेंटल कॉलेजों की एआईक्यू सीटों तक नहीं बढ़ाया गया था.Reservation Debate Start Again Reservation Limitation For 50 Percent Break  in Many States - आरक्षण की उच्च सीमा पर फिर बहस शुरू, आरक्षण की सीमा पर लगी  50 फीसदी की पाबंदी टूटी

पीएम मोदी ने भी इस फैसले पर ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रिया दी है. पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा है कि इस फैसले से मेडिकल फिल्ड में आने वाले छात्रों को काफी मदद मिलेगी. बता दें कि मोदी सरकार के इस निर्णय से अब हर साल अब एमबीबीएस में लगभग 1500 और स्नातकोत्तर के 2500 ओबीसी छात्रों को लाभ होगा. वहीं एमबीबीएस के लगभग 550  और स्नातकोत्तर के लगभग 1000 कमजोर वर्ग के छात्रों को लाभ मिलेगा.

निष्पक्ष पत्रकारिता के लिए बिहार ,UP, MP के हर जिले से रिपोर्टर आमंत्रित हैं
बायोडाटा वाट्सऐप करें –  9142802566 ,   1Newstimes7@gmail.com
Advertisement
Advertisement
Advertisement

Related posts

मैच हारा पर दिल जीत लिया नीली जर्सी में बाउंड्री के बाहर खड़े युवक ने ऑस्ट्रेलिया जर्सी पहली गर्लफ्रेंड को किया प्रपोज

News Times 7

किसान आंदोलन पर RSS का दावा -राष्ट्र विरोधी और असामाजिक ताकतें आंदोलन का समाधान निकालने के प्रयासों को विफल करने का प्रयास कर रही हैं

News Times 7

कोरोना के कारण बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC)के ऑडिटर पद लिए निकाली गई प्रारंभिक परीक्षा स्थगित

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़