News Times 7
टॉप न्यूज़ बड़ी-खबर ब्रे़किंग न्यूज़

Pm बोले-डीजिटल इंडिया जीवन जीने का नया तरिका बना

  • डिजिटल इंडिया जीवन जीने का एक तरीका बना
  • प्रौद्योगिकी के प्रयोग से लोगों के जीवन में हुआ बदलाव
  • हम सूचना युग के बीच में हैं

    कर्नाटका के प्रमुख वार्षिक प्रौद्योगिकी सम्मेलन 2020 का उद्घाटन प्रधानमंत्री मोदी ने विडीओ कान्फ्रेंसि्ग के जरिये किया, जहां यह कार्यक्रम 19-21 तक चलेगा इस सम्मेलन मे कर्नाटका के सीएम बीएस यदुरप्पा सहीत खास लोगो की गरिमामयी उपस्थित रही कार्यक्रम का उद्घाटन करने के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने डीजिटलाइजेशन पर फोकस करते हुए अपनी बातो को रखना शुरू किया उन्होंने कहा कि, डिजिटल इंडिया जीवन जीने का एक तरीका बन गया है। दूसरी तरफ, कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने कहा, प्रधानमंत्री मोदी के पास भारत को 2025 तक पांच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था और वैश्विक आर्थिक महाशक्ति बनाने का एक बड़ा सपना है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, हमारे युवाओं की क्षमता और प्रौद्योगिकी की संभावनाएं अनंत हैं। यह समय है, हम अपना सर्वश्रेष्ठ दें और उनका लाभ उठाएं। मुझे पूरा विश्वास है कि हमारा आईटी क्षेत्र हमें गौरवान्वित रखेगा।

अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा, हमारे नीतिगत निर्णय हमेशा तकनीक और नवाचार उद्योग को उदार बनाने के उद्देश्य से होते हैं। हाल ही में, हमने आईटी उद्योग पर अनुपालन बोझ को कम किया है। हमने हमेशा टेक इंडस्ट्री में स्टेकहोल्डर्स के साथ जुड़ने और भारत के लिए फ्यूचर प्रूफ पॉलिसी फ्रेमवर्क को चार्ट करने की कोशिश की है।

पीएम मोदी ने कहा, सूचना के युग में भारत आगे निकलने के लिए विशिष्ट स्थान पर है। हमारे पास सबसे अच्छे दिमाग के साथ-साथ सबसे बड़ा बाजार भी है। हमारे स्थानीय तकनीकी समाधानों में वैश्विक स्तर पर जाने की क्षमता है। यह तकनीक-समाधान का समय है जो भारत में डिजाइन किए गए हैं लेकिन दुनिया के लिए तैनात हैं।

Advertisement

प्रधानमंत्री ने कहा, औद्योगिक युग की उपलब्धियां रियर व्यू मिरर में हैं और अब हम सूचना युग के बीच में हैं। भविष्य में तेजी से बदलाव आ रहा है। औद्योगिक युग में परिवर्तन रैखिक था। लेकिन सूचना युग में, परिवर्तन विघटनकारी है।

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा, प्रौद्योगिकी प्रमुख कारण है कि हमारी योजनाओं ने फाइलों को स्थानांतरित कर दिया है और लोगों के जीवन को इतनी गति और पैमाने पर बदल दिया है। जब तकनीक की बात आती है, तो आगे का रास्ता सीखने और एक साथ बढ़ने में निहित है। उस दृष्टिकोण से प्रेरित होकर, भारत में कई ऊष्मायन केंद्र खुल रहे हैं। पिछले कुछ वर्षों में, हैकथॉन की संस्कृति भारत में आयोजित की गई है। मैंने उनमें से कुछ में भी भाग लिया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, प्रौद्योगिकी के माध्यम से हमने मानवीय गरिमा को बढ़ाया है। करोड़ों किसानों को एक क्लिक में आर्थिक सहायता मिलती है। लॉकडाउन के चरम पर तकनीक के जरिए ही यह सुनिश्चित हुआ कि भारत के गरीबों को उचित और त्वरित सहायता मिले। इस राहत के पैमाने में कुछ समानताएं हैं।

Advertisement

लोगों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, डिजिटल इंडिया की बदौलत हमारे राष्ट्र में विकास के लिए अधिक मानवीय केंद्रित दृष्टिकोण देखा गया है। इतने बड़े पैमाने पर प्रौद्योगिकी का उपयोग करने से हमारे नागरिकों के जीवन में कई परिवर्तन हुए हैं। इस लाभ को सभी लोग देख सकते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कर्नाटक के प्रमुख वार्षिक प्रौद्योगिकी सम्मेलन ‘बंगलूरू प्रौद्योगिकी शिखर सम्मेलन-2020’ का उद्घाटन किया। यह सम्मेलन 19 से 21 तक आयोजित किया जा रहा है। इस सम्मेलन में कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा भी शामिल हुए।

येदियुरप्पा ने कहा, प्रधानमंत्री मोदी के पास भारत को 2025 तक पांच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था और वैश्विक आर्थिक महाशक्ति बनाने का एक बड़ा सपना है। कर्नाटक सरकार भारत सरकार के इस दृष्टिकोण में भागीदारी की प्रतिज्ञा लेती है।

Advertisement

वहीं, प्रधानमंत्री मोदी ने सम्मेलन में लोगों को संबोधित करते हुए कहा, हमने पांच साल पहले डिजिटल इंडिया लॉन्च किया था। आज, मुझे यह कहते हुए खुशी हो रही है कि डिजिटल इंडिया को अब किसी भी नियमित सरकारी पहल के रूप में नहीं देखा जा रहा है। डिजिटल इंडिया जीवन जीने का एक तरीका बन गया है। विशेष रूप से गरीब जनता के लिए।

 

Advertisement
Advertisement

Related posts

खेती के लिए मुफ्त असिमित बिजली योजना बंद करेगी सरकार

News Times 7

24 घंटों में कोरोना के 16,906 नए मामले आए सामने,सक्रिय मरीजों की संख्या 1.32 लाख के पार

News Times 7

PDP नेता वहीद-उर-रहमान को NIA ने किया गिरफ्तार

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़