News Times 7
क्राइमटॉप न्यूज़बड़ी-खबरब्रे़किंग न्यूज़

अर्नब गोस्वामी की जमानत याचिका पर सुनवाई पर फैसला सुरक्षित, निचली अदालत में मे जाने की सलाह

  • अर्नब की सिक्योरिटी पर राज्यपाल ने गृह मंत्री से बात की
  • अर्नब का दावा -पुलिस टार्चर कर रही है
  • अर्नव पर मां बेटे के आत्महत्या करने का आरोप

 

 

बाम्बे हाईकोर्ट ने रिपब्लिक टीवी के एडीटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी को डिजाइनर और उनकी माँ की आत्महत्या के उकसाने के आरोप मे जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए फैसले को सुरक्षित कर दिया है इस पर विचार शनिवार तक सुरक्षित है !हाईकोर्ट ने यह भी कहा कि बेल के लिए अर्नब सेशन कोर्ट जा सकते हैं। इसके लिए उन्हें तयशुदा समय में अपील करनी होगी।

Advertisement

एक डिजाइनर और उनकी मां को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में मुंबई पुलिस ने 4 नवंबर को अर्नब को गिरफ्तार किया था।

अर्नब की सिक्योरिटी पर राज्यपाल ने गृह मंत्री से बात की थी
इससे पहले महाराष्ट्र राजभवन की तरफ से बयान आया कि अर्नब के मामले में राज्यपाल बीएस कोश्यारी ने गृह मंत्री अनिल देशमुख से बात की है। राज्यपाल ने अर्नब की सिक्योरिटी और हेल्थ को लेकर चिंता जताई। साथ ही गृह मंत्री से कहा है कि अर्नब के परिवार को उनसे मिलने और बात करने की छूट दी जाए।

पुलिस ने कहा- अर्नब ने ज्यूडिशियल कस्टडी में भी फोन यूज किया
रायगढ़ डिस्ट्रिक्ट कोर्ट ने अर्नब को 18 नवंबर तक ज्यूडिशियल कस्टडी में भेज दिया था। इसके बाद उन्हें शनिवार रात तक अलीबाग के एक स्कूल में बने क्वारैंटाइन सेंटर (अस्थाई जेल) में रखा गया। रविवार सुबह तलोजा जेल में शिफ्ट कर दिए गए। पुलिस ने कहा था कि ज्यूडिशियल कस्टडी होने के बावजूद अर्नब मोबाइल फोन यूज कर रहे थे और सोशल मीडिया पर एक्टिव थे।

Advertisement

अर्नब का दावा- पुलिस टॉर्चर कर रही
अर्नब ने तलोजा जेल जाते वक्त कहा था कि उनकी जान को खतरा बताया। उन्हें वकील से बात नहीं करने दी जा रही। हिरासत में उन्हें टॉर्चर किया जा रहा है। इससे पहले शनिवार को अर्नब के वकील ने हाईकोर्ट में सप्लीमेंट्री एप्लिकेशन लगाई थी। इसमें अर्नब ने दावा किया था कि पुलिस ने उन्हें जूते से मारा और पानी तक नहीं पीने दिया।

अर्नब पर आरोप- मां-बेटे को आत्महत्या के लिए मजबूर किया
मुंबई में इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक और उनकी मां कुमुदिनी ने मई 2018 में आत्महत्या कर ली थी। सुसाइड नोट में अर्नब समेत 3 लोगों पर आरोप लगाए थे। सुसाइड नोट के मुताबिक अर्नब और दूसरे आरोपियों ने नाइक को अलग-अलग प्रोजेक्ट के लिए डिजाइनर रखा था, लेकिन करीब 5.40 करोड़ रुपए का पेमेंट नहीं किया। इससे अन्वय की आर्थिक स्थिति बिगड़ गई और उन्होंने सुसाइड कर लिया। नाइक ने रिपब्लिक टीवी का स्टूडियो तैयार किया था।

Advertisement
Advertisement

Related posts

JEE And NEET महाराष्ट्र में परीक्षा रद्द करने की मांग, SC ने खारिज की याचिका

News Times 7

सासंद सह केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा -लालू यादव की बेटी रोहिणी आचार्य पर गर्व

News Times 7

रायपुर में कांग्रेस विधायक विनोद तिवारी ने कोरोना में हुए मरें 200 लोगों की अस्थियो का किया विसर्जन

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़