News Times 7
चुनावटॉप न्यूज़बड़ी-खबरब्रे़किंग न्यूज़राजनीति

मध्यप्रदेश के एग्जिट पोल मे शिवराज सरकार को बढत, बचेगी महाराज की प्रतिष्ठा

  • मध्यप्रदेश मे हुए 28 सिटो के उपचुनाव मे महाराज की प्रतिष्ठा दांव पर
  • सीएम शिवराज के साथ सिंधिया ही बीजेपी के सबसे बड़े स्टार प्रचारक थे
  • एग्जिट पोल के अनुमान में कांग्रेस को 10-12 सीटें मिलती दिख रही हैं

 

 

मध्यप्रदेश मे हुए 28 सिटो के उपचुनाव मे महाराज की प्रतिष्ठा दांव पर है क्योकी ज्योतिरादित्य सिंधीया ने ही कांग्रेस से बगावत कर बीजेपी ज्वाइन कर ली अब जब यहां उपचुनाव हुए तो कमलनाथ सरकार की कुर्सी खतरें मे दिख रही है लेकिन महाराज की प्रतिष्ठा भी दांव पर है ! चौथी बार सीएम बने शिवराज सिंह चौहान के लिए यह उपचुनाव लिटमस टेस्ट की तरह है। चुनावी सभाओं में शिवराज बार-बार कह रहे थे कि यह उपचुनाव उनके मुख्यमंत्री बने रहने के लिए है। ज्योतिरादित्य सिंधिया की कांग्रेस से बगावत के बाद उन्हें सीएम का पद तो मिल गया, लेकिन विधानसभा में बहुमत की तलवार भी लगातार लटक रही थी। एग्जिट पोल के अनुमानों को सही मानें तो शिवराज अगले कुछ समय के लिए अपनी कुर्सी सुरक्षित मान सकते हैं।

Advertisement

ज्योतिरादित्य सिंधिया के लिए एग्जिट पोल के अनुमान उनकी प्रतिष्ठा को धक्का पहुंचा सकते हैं। इस साल होली के दिन कांग्रेस से बगावत कर उन्होंने प्रदेश में कमलनाथ की सरकार गिराई और 22 विधायकों के साथ बीजेपी में शामिल हो गए। बाद में 3 और विधायकों ने कांग्रेस छोड़ बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की। ये सभी विधायक आम तौर पर सिंधिया के ही समर्थक माने जाते हैं। बीजेपी में एंट्री के बाद अपनी प्रासंगिकता साबित करने के लिए ये उपचुनाव सिंधिया के लिए पहला मौका है। वे चुनावी सभाओं में कई बार इसे अपनी प्रतिष्ठा का सवाल बता कर वोट मांगते नजर आए

प्रचार अभियान के दौरान सीएम शिवराज के साथ सिंधिया ही बीजेपी के सबसे बड़े स्टार प्रचारक थे। अपने समर्थक विधायकों को जिताने की पहली जिम्मेदारी भी उन्हीं के पास थी। एग्जिट पोल के अनुमान में कांग्रेस को 10-12 सीटें मिलती दिख रही हैं। इनमें से कई ग्वालियर-चंबल संभाग की हैं जिसे सिंधिया का स्ट्रॉन्ग होल्ड माना जाता है। यदि उपचुनाव के नतीजे एग्जिट पोल के अनुमानों से मेल खाते हैं तो सिंधिया के कई करीबियों का विधायक नहीं बनना तय है। यह महाराज के लिए बहुत बड़ा राजनीतिक झटका साबित हो सकता है।

एग्जिट पोल के नतीजों से स्पष्ट है कि एमपी में बीजेपी की सरकार को फिलहाल कोई खतरा नहीं होगा। विधानसभा में बहुमत के लिए बीजेपी को कम से कम 9 सीटें जीतना जरूरी है. एग्जिट पोल के अनुमानों में पार्टी यह आंकड़ा आसानी से पार करती दिख रही है। उपचुनाव के नतीजे केवल बीजेपी की सरकार बचाने के लिहाज से ही महत्वपूर्ण नहीं हैं। उपचुनाव के नतीजों में दो महत्वपूर्ण सवालों के जवाब भी छिपे हैं। दो महत्वपूर्ण राजनीतिक शख्सियतों का राजनीतिक भविष्य भी इन नतीजों में छिपा हुआ है।
Advertisement
Advertisement

Related posts

22 वर्षीय लड़की ने 17 वर्षीय नाबालिग लड़के को बंधक बना सुनसान जगह पर ले जाकर किया दुष्कर्म

News Times 7

पश्चिम बंगाल चुनाव मे लेफ्ट और कांग्रेस का गठबंधन, मिलकर लड़ेंगे चुनाव

News Times 7

पुलिस ने लाइनमैन का काटा चालान तो लाइनमैन ने काट दी थाने की बिजली

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़