News Times 7
अध्यात्मबड़ी-खबरब्रे़किंग न्यूज़

अयोध्या में मस्जिद निर्माण में तेजी:1400 वर्गमीटर जमीन पर बनेगी इबादतगाह, इतने ही क्षेत्रफल में थी बाबरी मस्जिद

अयोध्या में मस्जिद निर्माण में तेजी:1400 वर्गमीटर जमीन पर बनेगी इबादतगाह, इतने ही क्षेत्रफल में थी बाबरी मस्जिद

    • मस्जिद की जमीन का टोपोग्राफी नक्शा तैयार करने का काम शुरू
    • ड्राफ्टमैन टीम के साथ ट्रस्ट के पदाधिकारी मस्जिद साइट पर पहुंचे
    • टोपोग्राफी नक्शे से आर्किटेक्ट पैनल तैयार करेगा आर्किटेक्ट डिजाइन
    • अयोध्या के धन्नीपुर गांव में 1400 वर्गमीटर क्षेत्र में मस्जिद का निर्माण होगा। इतने क्षेत्रफल में ही बाबरी मस्जिद थी। यहां इबादतगाह के साथ रहीम, रसखान और कबीर जैसी विभूतियों पर शोध के लिए सेंटर भी बनेगा। रिसर्च स्कॉलर्स के लिए रहने और लाइब्रेरी की व्यवस्था रहेगी। रिसर्च सेंटर यूजीसी के मानक पर बनेगा। मस्जिद निर्माण के लिए बनाए गए इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन के सचिव अतहर हुसैन ने बताया कि यहां सबसे बड़ा प्रोजेक्ट हॉस्पिटल है। उन्होंने बताया कि जल्द फाउंडेशन में अयोध्या का प्रतिनिधित्व भी दिखेगा।टोपोग्राफी नक्शा तैयार करने के लिए हुई नपाईसुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को मिली मस्जिद निर्माण की 5 एकड़ जमीन पर कब्जा मिलने के बाद शनिवार को ड्राफ्ट्समैन टीम साइट पर पहुंची। धन्नीपुर गांव में मस्जिद की जमीन का टोपोग्राफी नक्शा तैयार करने के लिए मौके पर नापजोख की गई। टीम के सदस्यों ने मस्जिद साइट से करीब 500 मीटर की दूरी पर स्थित सरयू तट का भी निरीक्षण किया। इसके साथ प्रोजेक्ट लाॅन्च करने की तैयारी शुरू हो गई। हुसैन ने बताया कि टोपोग्राफी नक्शा तैयार कर इसे दिल्ली के तीन नामी आर्किटेक्ट के पैनल के पास भेजा जाएगा। जो 5 एकड़ जमीन पर लाॅन्च किए जाने वाले प्रोजेक्ट की आर्किटेक्ट डिजाइन तैयार कर इस पर आने वाले खर्च का एस्टीमेट तैयार करके मस्जिद के ट्रस्ट को सौंपेंगे। उनमें से एक आर्किटेक्ट डिजाइन को मस्जिद ट्रस्ट फाइनल करेगा।उन्होंने बताया कि अभी बैंक खाते का संचालन शुरू नहीं हुआ है और ट्रस्ट के खाते में पैसा नहीं है। फिर भी लोगों के सहयोग से मस्जिद की आर्किटेक्ट डिजाइन तैयार करवाई जा रही है। मस्जिद ट्रस्ट में अभी 9 सदस्य हैं। 6 सदस्यों को और शामिल करना है। इसमें अयोध्या जिले का भी प्रतिनिधित्व रहेगा।

      इनका बनेगा आर्किटेक्ट डिजाइन

      हुसैन के मुताबिक, 5 एकड़ की जमीन पर बड़ा प्लान हाॅस्पिटल का है। सिर्फ 1400 वर्गमीटर क्षेत्र में मस्जिद बनेगी। इसी आकार में बाबरी मस्जिद खड़ी थी, पर मस्जिद बाबर के नाम से नहीं होगी। मेरी निजी राय तो इसका नाम धन्नीपुर मस्जिद रखने का है। यह मसला ट्रस्ट की बैठक में आमराय से तय होगा। लेकिन सबसे बड़ा प्रोजेक्ट हॉस्पिटल का बनेगा। यहां के लोगों की मांग हाॅस्पिटल की है। इसके अलावा कल्चरल रिसर्च सेंटर और कम्युनिटी किचन का भी प्लान है। इंडो इस्लामिक कल्चर की गंगा जमुनी साझेदारी के विषयों के साथ रहीम, रसखान, कबीर जैसे विभूतियों पर भी शोध के लिए कल्चरल सेंटर बनेगा। इसमें आधा दर्जन शोध स्कॉलर्स के लिए रहने और रिसर्च के लिए लाइब्रेरी की व्यवस्था रहेगी। यह सेंटर यूजीसी के मानक पर बनेगा।

    • मस्जिद ट्रस्ट के सदस्यों ने जैन मंदिर देखामस्जिद ट्रस्ट के सचिव अतहर हुसैन और ट्रस्टी इमरान अहमद ने शनिवार को जमीन के टोपोग्राफी नक्शे की नापजोख करवाई। इसके बाद वहां के रत्नापुरी में स्थित जैन श्वेतांबर मंदिर को भी देखा। मंदिर के पुजारी ने 15वें तीर्थंकर धर्मनाथ से जुड़े इस मंदिर की प्राचीनता की जानकारी दी।
Advertisement
Advertisement

Related posts

राज ठाकरे के अगुवाई में लाउडस्पीकर विवाद बन सकता है बड़ा आंदोलन,राज ठाकरे पर लटकी गिरफ्तारी की तलवार

News Times 7

लखनऊ के डॉक्टर को भेजा कूरियर से कारतूस, फिर मांगी रंगदारी, कहा- बहुत कमा रहे हो 5 लाख रुपये भेज दो, FIR दर्ज

News Times 7

केदारनाथ-बद्रीनाथ का रास्ता भारी भूस्खलन से हुआ बंद, जानें किस रूट से करें यात्रा

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़