News Times 7
अर्थव्यवस्थाटॉप न्यूज़बड़ी-खबरब्रे़किंग न्यूज़

सरकार की नीतियों ने डुबो दिया लक्ष्मी विलास बैंक को आज खत्म हो जाएगा इस बैंक का वजूद

बैंकों के बढ़ते एनपीए घाटे और सरकार की नीतियों ने आज एक और बैंक के नाम पर ताला लगा दिया जो पिछले 94 सालों से लोगों को सेवा दे रहा था, लक्ष्मी विलास बैंकअब एक  इतिहास बनकर रह जाएगा 94 सालों से चल रहे इस बैंक का नामोनिशान अब खत्म होने के कगार पर है क्योंकि सरकार की मंजूरी के बाद इसे डीबीएस इंडिया में विलय कर दिया जाएगा इसकी इक्विटी भी पूरी तरीके से खत्म हो जाएगी विगत कुछ सालों में है देश के बहुत सारे ऐसे बैंक हैं जिन का नामोनिशान सरकार ने खत्म कर दिया वह बैंक कर्जे के शिकार होकर सरकार के नीतियों से विफर होकर अन्य बैंकों में विलय कर दिए गए!लक्ष्मी विलास बैंक का आज से नाम खत्म

लक्ष्मी विलास बैंक पर 17 नवंबर को एक महीने के लिए मोरेटोरियम लगाया गया था. लेकिन ठीक 10 दिन के बाद 27 नवंबर को इस बैंक का नामोनिशान मिट जाएगा. केंद्र सरकार ने संकटग्रस्त लक्ष्मी विलास बैंक के DBS इंडिया में विलय को मंजूरी दे दी है. जिसके तहत लक्ष्मी विलास बैंक का अस्तित्व 27 नवंबर को खत्म हो जाएगा.विलय नियम के मुताबिक, 27 नवंबर को लक्ष्मी विलास बैंक के शेयर एक्सचेंज से डीलिस्ट हो जाएंगे. लक्ष्मी विलास बैंक के सभी ब्रांच का नाम बदलकर DBS इंडिया हो जाएगा. 94 साल पुराने लक्ष्मी विलास बैंक का नाम खत्म हो जाएगा और साथ ही इसकी इक्विटी भी पूरी तरह खत्म हो जाएगी. अब इस बैंक का पूरा डिपॉजिट DBS India के पास चला जाएगा.

लक्ष्मी विलास बैंक की शुरुआत तमिलनाडु के करूर में कुछ कारोबारियों ने मिलकर की थी. शुरुआत में यह बैंक छोटे बिजनेस को लोन देता था, और फिर धीरे-धीरे बैंक का दायरा बढ़ा. बैंक की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक 7 लोगों ने मिलकर इस बैंक की शुरुआत की थी.लक्ष्मी विलास बैंक के शेयर एक्सचेंज से डीलिस्ट

Advertisement

इंडियन कंपनीज एक्ट 1913 के तहत 3 नवंबर 1926 से लक्ष्मी विलास बैंक ने बैंक की तरह काम करना शुरू किया था. उसके बाद 10 नवंबर 1926 को बिजनेस शुरू करने का सर्टिफिकेट मिला था. लक्ष्मी विलास बैंक को 19 जून 1958 को RBI से बैंकिंग लाइसेंस मिला था और 11 अगस्त 1958 को यह शेड्यूल कमर्शियल बैंक बन गया.

यह पहली बार है, जब किसी भारतीय बैंक को डूबने से बचाने के लिए किसी विदेशी बैंक में विलय का फैसला लेना पड़ा है. सरकार के इस फैसले से बैंक के 20 लाख डिपॉजिटर और 4000 कर्मचारियों को राहत मिलेगी. RBI ने लक्ष्मी विलास बैंक को बचाने के लिए DBS इंडिया में विलय का रास्ता चुना.

बुधवार को विलय के ऐलान के साथ ही लक्ष्मी विलास बैंक के खातों से अधिकतम 25,000 रुपये की रकम निकालने की जो सीमा थी, उसे भी हटा लिया गया. लक्ष्मी विलास बैंक इस साल का दूसरा बैंक है, जिसे RBI ने डूबने से बचाया है. इससे पहले मार्च में RBI ने यस बैंक को डूबने से बचाया था.Big News Lakshmi Vilas Bank to operate as DBS Bank from today

Advertisement

डीबीएस एशिया का एक प्रमुख वित्तीय सेवा ग्रुप है, जिसकी 18 बाजारों में उपस्थिति है और जिसका मुख्‍यालय सिंगापुर में है. वह सिंगापुर के शेयर बाजार में लिस्टे‍ड भी है. विलय के बाद भी डीबीआईएल का संयुक्‍त बैलेंस शीट सुदृढ़ रहेगा और इसकी शाखाओं की संख्‍या बढ़कर 600 हो जाएगी.पिछले 10 तिमाही से लक्ष्मी विलास बैंक को लगातार घाटा हो रहा था. 30 सितंबर को खत्म तिमाही में टैक्स पेमेंट के बाद नेट लॉस 396.99 करोड़ रुपये का था. करीब 5 साल पहले लक्ष्मी विलास बैंक ने रिटेल, MSME और SME को धड़ल्ले से लोन बांटना शुरू कर दिया था. जिसमें कुछ वापस नहीं आए. जो धीरे-धीरे NPA बन गया, और बैंक संकट में घिरता गया. एक अनुमान के मुताबिक इस बैंक का 3000 से 4000 करोड़ रुपये का कॉरपोरेट लोन बैड लोन है.

Advertisement

Related posts

हिन्दू नव वर्ष पर निकली बाईक रैली के दौरान भड़की हिंसा ,एक दर्जन दुकानों में आगजनी, कर्फ्यू जारी

News Times 7

मनीष सिसोदिया की केस में आया बड़ा अपडेट जानिए इस मौके पर क्यों बदला मानी सिसोदिया ने अपना वकील

News Times 7

ममता बनर्जी से मुलाकात के बाद बदले सुर भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी के मोदी सरकार हर मोर्चे पर बताया फेल

News Times 7

Leave a Comment

टॉप न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़